Cash On Delivery on 26000 + Pin codes in Inida
+91 9320450045

Max HB Capsules- मैक्स एचबी कैप्सूल

हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने का आयुर्वेदिक उपाय

 एनीमिया सामान्य रूप से होने वाली स्वास्थ्य संबंधी एक ऐसी परेशानी है जिसका सबसे अच्छा उपचारआयुर्वेद में माना जाता है। जब किसी व्यक्ति के ब्लड में हीमोग्लोबिन के लेवल में कमी आ जाती है तब यह स्थिति एनीमिया की कहलाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आयुर्वेद के उपचार से एनीमिया जैसी परेशानी के मूल कारणों को सरलता से दूर किया जा सकता है। 

 शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी और एनीमिया के कारण थकान, कभी-कभी सांस फूलना, इमम्यूनिटी सिस्टम का कमजोर होना, सिरदर्द, चक्कर आना और बेवजह कमजोरी आना जैसी परेशानियाँ होने लगती हैं। दरअसल ब्लड में हीमोलग्लोबिन और रेड सेल्स की कमी से एनीमिया की परेशानी हो जाती है। समय पर इनका न इलाज करने पर हेल्थ संबंधी कुछ गंभीर परेशानियाँ भी हो सकती हैं।दरअसल शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी का अर्थ होता है ऑक्सीज़न की कमी का होना और इसी कारण सांस फूलना, कमजोरी महसूस होना, चक्कर आने के साथ ही अंदरूनी अंगों को भी नुकसान पहुँच सकता है।

 ब्लड प्लेटलेट्स में कमी के कारण थकान, पीरियड के समय भारी रक्त्स्त्राव, पीलिया और चोट लगने पर  खून के बहना न रुकना जैसी परेशानियाँ भी हो सकती हैं। इसलिए समय रहते जांच करके इलाज करने से कम होती प्लेटलेट्स संबंधी परेशानियों से आसानी से बचा जा सकता है।

 हमारे शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स हर प्रकार के इन्फेक्शन से लड़ने का काम करते हैं। जब ब्लड में इन व्हाइट ब्लड सेल्स की कमी होने लगती है तब व्यक्ति के शरीर में किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन के होने का खतरा बढ़जाता है। इसलिए शरीर में इमम्युनिटी को मजबूत बनाए रखने के लिए व्हाइट ब्लड सेल्स की मात्रा में सुधार होना बहुत जरूरी होता है।

 

मैक्स एचबी कैप्सूल शरीर में हीमोग्लोबिन के कम हुए लेवल को ठीक करने के लिए एक आयर्वेदिक उपाय है। यह आयर्वेदिक सप्लिमेंट विशेष रूप से हीमोग्लोबिन के कम हुए लेवल में सुधार करने के साथ ही रेड ब्लड सेल्स (RBC) , व्हाइट ब्लड सेल्स (WBC) और प्लेटलेट्स की स्थिति में भी सुधार करता है। इस प्रकार  इस सप्लिमेंट के लेने से आपके शरीर के ब्लड की सम्पूर्ण क्वालिटी में काफी सुधार हो जाता है और इसके प्रयोग से एनीमिया के सभी लक्षणों से कम ही समय में मुक्ति भी मिल जाती है।

 

स्वास्थय को होने वाले लाभ व सुझाव:

मैक्स एचबी कैप्सूल न केवल शरीर में ब्लड की क्वालिटी में सुधार करता  है बल्कि  इसके प्रभाव भी स्थायी होते हैं।मैक्स एच बी कैप्सूल का सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ ब्लड के हीमोग्लोबिन स्तर को बढ़ाने पर होने वाला इसकाअद्भुत प्रभाव है। इसी के साथ यह ब्लड की मात्रा और क्वालिटी को बढ़ा कर शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता में भी सुधार करता है।

 

यदि आप काफी अधिक समय से चले आ रहे हेमरेज, पीरियड के कारण होने वाले अत्याधिक रक्त्स्त्राव से होने वाली ब्लड की कमी के साथ हीगंभीर प्रकृति के रोग जैसे डेंगू, मलेरिया या टाइफाइड आदि परेशानियों के कारण होने वाले एनीमिया से परेशान हैं तब मैक्स एचबी कैप्सूल आपके लिए एक उपयुक्त हल सिद्ध हो सकता है। इससे न  केवलआपके ब्लड की क्वालिटी  में सुधार हो सकता है बल्कि तीन से चार दिनों में ही ब्लड में हीमोग्लोबिन की मात्रा भी सामान्य स्तर पर आ सकती है। यह हर उस बीमारी जिसमे खून के लेवल  में कमी होती है, के लिए जीवनदायी उपचार के रूप में काम कर सकता है।

 

एक प्राकृतिक प्रोडक्ट होने के कारण इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। आप जब इसका सेवन करते हैं तब आपको इसमें मिली सभी प्राकृतिक चीजों के हेल्दी बेनीफिट मिल सकते हैं।

 

निम्न परेशानियों में इसके  सेवन का सुझाव दिया जाता है :

  • ब्लीडिंग होने पर एनीमिया होना
  • प्रेग्नेंसी संबंधी एनीमिया
  • सांस संबंधी परेशानी जैसे ब्रोंकाइटिस, दमा आदि होना
  • डेंगू, टाइफाइड, मलेरिया आदि के कारण गंभीर एनीमिया
  • यूरिन इन्फेक्शन
  • हेपिटाइटिस
  • रोगों से लड़ने की क्षमता का कमजोर होने के कारण होने वाली परेशानियाँ

 

कैसे प्रयोग करें

सर्वोत्तम लाभ प्राप्त करने के लिए,मैक्स एचबी कैप्सूल का सेवनप्रतिदिन खाने के पश्चात चीनी वाले एक गिलास गरम दूध के साथ करने का सुझाव दिया जाता है। इलाज के रूप में  आपको हर महीने 12 कैप्सूल्स लेने चाहिएँ । अच्छे रिज़ल्ट लेने के लिए इसके हर महीने 12 कैप्सूल्स को कम से कम3 से छह माह तक ले सकते हैं । इसके बाद ही आपके शरीर में ब्लड लेवल उचित स्तर  पर पहुँच कर लंबे समय तक बना रह सकेगा।

 

महिलाओं को इसका प्रयोग पीरियड के बाद शुरू करके लगभग 12 दिन तक जारी रखना चाहिए। लेकिन ध्यान रहे कि आपको इसे पीरियड  के समय में नहीं लेना है।

 

किसी गंभीर स्थिति में आप इसके लिए प्रति दिन 2 से 3 तक  कैप्स्यूल भी ले सकते हैं। इसके लेने के कुछ समय बाद ही आपके शरीर में ब्लड की मात्रा और क्वालिटी दोनों में ही सकारात्मक सुधार देखने को मिल सकता है।

    24 Months from date of manufacturing. Store in a cool, dry and dark place away from moisture and direct sunlight. Seal lock pouch after every use. Best consumed within 45 days of opening

    मैक्स एचबी कैप्सूल

    हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने का आयुर्वेदिक उपाय

     

    एनीमिया सामान्य रूप से होने वाली स्वास्थ्य संबंधी एक ऐसी परेशानी है जिसका सबसे अच्छा उपचार आयुर्वेद में माना जाता है। जब किसी व्यक्ति के ब्लड में हीमोग्लोबिन के लेवल में कमी आ जाती है तब यह स्थिति एनीमिया की कहलाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आयुर्वेद के उपचार से एनीमिया जैसी परेशानी के मूल कारणों को सरलता से दूर किया जा सकता है। 

     

    शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी और एनीमिया के कारण थकान, कभी-कभी सांस फूलना, इमम्यूनिटी सिस्टम का कमजोर होना, सिरदर्द, चक्कर आना और बेवजह कमजोरी आना जैसी परेशानियाँ होने लगती हैं। दरअसल ब्लड में हीमोलग्लोबिन और रेड सेल्स की कमी से एनीमिया की परेशानी हो जाती है। समय पर इनका न इलाज करने पर हेल्थ संबंधी कुछ गंभीर परेशानियाँ भी हो सकती हैं। दरअसल शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी का अर्थ होता है ऑक्सीज़न की कमी का होना और इसी कारण सांस फूलना, कमजोरी महसूस होना, चक्कर आने के साथ ही अंदरूनी अंगों को भी नुकसान पहुँच सकता है।

     

    ब्लड प्लेटलेट्स में कमी के कारण थकान, पीरियड के समय भारी रक्त्स्त्राव, पीलिया और चोट लगने पर  खून के बहना न रुकना जैसी परेशानियाँ भी हो सकती हैं। इसलिए समय रहते जांच करके इलाज करने से कम होती प्लेटलेट्स संबंधी परेशानियों से आसानी से बचा जा सकता है।

     

    हमारे शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स हर प्रकार के इन्फेक्शन से लड़ने का काम करते हैं। जब ब्लड में इन व्हाइट ब्लड सेल्स की कमी होने लगती है तब व्यक्ति के शरीर में किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन के होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए शरीर में इमम्युनिटी को मजबूत बनाए रखने के लिए व्हाइट ब्लड सेल्स की मात्रा में सुधार होना बहुत जरूरी होता है।

     

    मैक्स एचबी कैप्सूल शरीर में हीमोग्लोबिन के कम हुए लेवल को ठीक करने के लिए एक आयर्वेदिक उपाय है। यह आयर्वेदिक सप्लिमेंट विशेष रूप से हीमोग्लोबिन के कम हुए लेवल में सुधार करने के साथ ही रेड ब्लड सेल्स (RBC) , व्हाइट ब्लड सेल्स (WBC) और प्लेटलेट्स की स्थिति में भी सुधार करता है। इस प्रकार  इस सप्लिमेंट के लेने से आपके शरीर के ब्लड की सम्पूर्ण क्वालिटी में काफी सुधार हो जाता है और इसके प्रयोग से एनीमिया के सभी लक्षणों से कम ही समय में मुक्ति भी मिल जाती है।

     

    स्वास्थय को होने वाले लाभ व सुझाव:

    मैक्स एचबी कैप्सूल न केवल शरीर में ब्लड की क्वालिटी में सुधार करता  है बल्कि  इसके प्रभाव भी स्थायी होते हैं। मैक्स एचबी कैप्सूल का सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ ब्लड के हीमोग्लोबिन स्तर को बढ़ाने पर होने वाला इसका अद्भुत प्रभाव है। इसी के साथ यह ब्लड की मात्रा और क्वालिटी को बढ़ा कर शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता में भी सुधार करता है।

     

    यदि आप काफी अधिक समय से चले आ रहे हेमरेज, पीरियड के कारण होने वाले अत्याधिक रक्त्स्त्राव से होने वाली ब्लड की कमी के साथ ही गंभीर प्रकृति के रोग जैसे डेंगू, मलेरिया या टाइफाइड आदि परेशानियों के कारण होने वाले एनीमिया से परेशान हैं तब मैक्स एचबी कैप्सूल आपके लिए एक उपयुक्त हल सिद्ध हो सकता है। इससे न  केवल आपके ब्लड की क्वालिटी  में सुधार हो सकता है बल्कि तीन से चार दिनों में ही  ब्लड में हीमोग्लोबिन की मात्रा भी सामान्य स्तर पर आ सकती है। यह हर उस बीमारी जिसमे खून के लेवल  में कमी होती है, के लिए जीवनदायी उपचार के रूप में काम कर सकता है।

     

    एक प्राकृतिक प्रोडक्ट होने के कारण इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। आप जब इसका सेवन करते हैं तब आपको इसमें मिली सभी प्राकृतिक चीजों के हेल्दी बेनीफिट मिल सकते हैं।

     

    निम्न परेशानियों में इसके  सेवन का सुझाव दिया जाता है :

    • ब्लीडिंग होने पर एनीमिया होना
    • प्रेग्नेंसी संबंधी एनीमिया
    • सांस संबंधी परेशानी जैसे ब्रोंकाइटिस, दमा आदि होना
    • डेंगू, टाइफाइड, मलेरिया आदि के कारण गंभीर एनीमिया
    • यूरिन इन्फेक्शन
    • हेपिटाइटिस
    • रोगों से लड़ने की क्षमता का कमजोर होने के कारण होने वाली परेशानियाँ

     

    कैसे प्रयोग करें

    सर्वोत्तम लाभ प्राप्त करने के लिए, मैक्स एचबी कैप्सूल का सेवन प्रतिदिन खाने के पश्चात कम चीनी वाले एक गिलास गरम दूध के साथ करने का सुझाव दिया जाता है। इलाज के रूप में  आपको हर महीने  12 कैप्सूल्स लेने चाहिएँ । अच्छे रिज़ल्ट लेने के लिए इसके हर महीने 12 कैप्सूल्स को कम से कम 3 से छह माह तक ले सकते हैं । इसके बाद ही आपके शरीर में ब्लड लेवल उचित स्तर  पर पहुँच कर लंबे समय तक बना रह सकेगा।

     

    महिलाओं को इसका प्रयोग पीरियड के बाद शुरू करके लगभग 12 दिन तक जारी रखना चाहिए। लेकिन ध्यान रहे कि आपको इसे पीरियड  के समय में नहीं लेना है।

    किसी गंभीर स्थिति में आप इसके लिए प्रति दिन 2 से 3 तक  कैप्स्यूल भी ले सकते हैं। इसके लेने के कुछ समय बाद ही आपके शरीर में ब्लड की मात्रा और क्वालिटी दोनों में ही सकारात्मक सुधार देखने को मिल सकता है।

     

    सामग्री

    मैक्स एचबी कैप्सूल को बनाने में जिस सामग्री का प्रयोग किया गया है वो है:

     

    अभ्रक भस्म :

    अभ्रक भस्म को एनीमिया का नैचुरल रूप से इलाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसकी ब्लड संबंधी विशेषताएँ व्यक्ति के ब्लड में हीमोग्लोबिन लेवल को बढ़ाने के साथ ही रेड ब्लड सेल्स के बनाने में भी सहायक होती हैं। यह अधिकतर हेपटाइटिस, दमा, ब्रोंकाइटिस और पीलिया आदि के इलाज के लिए जानी जाती  है। इसके अलावा यह ब्लड सर्क्युलेशन को बढ़ाने के साथ ही मस्तिष्क को भी तरोताज़ा  रखने में सहायक होती है।

     

    गिलोय सत्व:

    यह एक आयुर्वेदिक हर्ब है जो शरीर के इमम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए अच्छा काम करती  है। इस हर्ब का अधिकतर प्रयोग बुखार, एनीमिया, टाइफाइड, यूरिन इन्फेक्शन, पीलिया और हृदय रोग संबंधी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकाल कर शरीर को स्वस्थ रखते हुए इमम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करती है।

     

     पुदीना क्रिस्टल:

    यह एक जानी मानी हर्ब है जो डाइजेस्टिव सिस्टम को ठंडा व शांत रखने का काम करती है। अपने  एंटी-ऑक्सीडेंट गुण और एंटी इन्फ़्लामेटरी गुणों के कारण यह शरीर को अनेक रूपों में फायदा पहुंचा सकती है।

     

    दरअसल एनीमिया एक गंभीर विकार माना जाता है और सामान्य रूप से शरीर को ब्लड के सभी घटकों को  एक लेवल पर लाने में काफी समय लगता है । लेकिन इसके लिए आयुर्वेद में अनेक ऐसे प्रभावशाली  उपाय हैं जिन्हें आप खोज सकते हैं। मैक्स एचबी कैप्सूल एक ऐसा ही उपयुक्त उपाय है जो आपके शरीर में इमम्युनिटी सिस्टम को मजबूत रखते हुए ब्लड लेवल को पुनः सामान्य रखने में मदद कर सकता है।

     

    आज ही बिना देर किए एनीमिया जैसे परेशानी को दूर करने के लिए और चमत्कारी स्वास्थय लाभ प्राप्त करने के लिए मैक्स एचबी कैप्सूल को अपने घर में स्थान दें।

       

    उपयोगी प्रश्न:

    1. यह कैसे काम करता है?

    यह रेड ब्लड सेल्स के निर्माण और हीमोग्लोबिन के लेवल में वृद्धि करके ब्लड की क्वालिटी को सम्पूर्ण रूप में सुधारता है।इसके साथ ही यह ब्लड की ऑक्सीज़न ले जाने की क्षमता को भी बढ़ा देता है। इमम्युनिटी को मजबूत करता है जिसके कारण शरीर पूरी तरह स्वस्थ रहता है, 

    1. क्या इस कैप्स्यूल का कोई साइड इफेक्ट है?

    यह पूर्णतया एक नैचुरल उपचार है इसलिए इसके प्रयोग से किसी प्रकार का  कोई साइड इफेक्ट नहीं  है। इस लाभकारी और नैचुरल प्रोडक्ट के सेवन से अनेक लोगों को विभिन्न प्रकार के लाभ प्राप्त हुए हैं।

    1. क्या प्रेग्नेंसी में इसका प्रयोग उचित है?

    जी हाँ, इसके सेवन से प्रेग्नेंसी में कोई बाधा नहीं आती है। बल्कि इसके नैचुरल एलीमेंट्स शरीर और मस्तिष्क पर अच्छा प्रभाव छोड़ते हैं।

    1. कितने दिनों बाद इसके परिणाम दिखाई देते हैं ?

    इस कैप्स्यूल के सेवन शुरू करने के तीन दिनों के बाद ही ब्लड एलीमेंट्स में वृद्धि होने लगती है। लगभग 12 दिनों के भीतर ही आपके ब्लड लेवल सामान्य हो जाएँगे।

    1. यह डेंगू के इलाज में किस प्रकार लाभकारी हो सकता है?

    डेंगू बीमारी का मुख्य लक्षण ब्लड प्लेटलेट्स का निरंतर गिरते जाना होता है। जब आप मैक्स एचबी कैप्सूल का सेवन शुरू करते हैं तब यह आपके प्लेटलेट्स की संख्या को बढ़ाने के साथ ही इमम्युनिटी सिस्टम को भी मजबूत कर देता है जिससे आपको डेंगू से ठीक होने में मदद मिलती है।

    1. यह टाइफाइड और मलेरिया में किस प्रकार फ़ायदा पहुंचा सकता है?

    इन इन्फेक्शन के कारण शरीर का इमम्यूनिटी सिस्टम कमजोर हो जाता है। मैक्स एचबी कैप्सूल अपने एंटी ऑक्सीडेंट गुण के कारण शरीर से सारे टॉक्सिन निकाल कर इमम्यूनिटी सिस्टम को दोबारा मजबूत करके आपके शरीर को इन इन्फेक्शन से लड़ने की ताकत देता है।

    1. दमा और दूसरी सांस संबंधी बीमारियों के इलाज में यह क्या मदद करता है?

    मैक्स एचबी कैप्सूल में अभ्रक भस्म मिली होने के कारण यह फेफड़े और श्वसन तंत्र को मजबूती प्रदान करता है। इस प्रकार यह इमम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करके श्वास संबंधी बीमारियों के  उपचार में मदद करता है।

    1. क्या इसका सेवन बच्चों के लिए सुरक्षित है?

    यह 15 वर्ष और उससे ऊपर की आयु के बच्चों के लिए पूरी तरह से सुरक्शित है।

    1. मैं इस प्रोडक्ट को कहाँ से ले सकता हूँ?

    आप इस प्रोडक्ट को https://www.clearheart.in/ पर क्लिक करके ऑर्डर कर सकते हैं :